प्रदेश की राजधानी पटना समेत पूरे प्रदेश में शीतलहर का कहर जारी है । लगातार गिरते पारे और तेज पछुवा हवा ने लोगों को घरों में कैद कर दिया है। खुले आसमान के नीचे सोने को मजबूर गरीब-बेसहारा लोगों के लिए ठंड जानलेवा साबित हो रही है।

Read more ...

लोकसभा चुनाव व उसके उपरांत हरियाणा व महाराष्ट्र के विधानसभा चुनावों में जिस कदर नरेंद्र मोदी के आह्वान पर भाजपा को लोगों ने अपना समर्थन दिया और अब झारखण्ड एवं जम्मू-कश्मीर के एक्ज़िट-पोल जैसे नतीजों की ओर इशारा कर रहे हैं उसे देख कर ये कहने में कोई अतिशयोक्ति नहीं है कि भारतीय मतदाताओं में मोदी की स्वीकार्यता बाकी सबों पर भारी पड़ रही है l

Read more ...

ये ज्ञातव्य है कि बिना किसी स्पष्टविजन के दो बार संसदीय राजनीति में कथित तीसरे मोर्चे की सरकार तो बनी लेकिन स्वहितव जोड़तोड़ की राजनीति के परिणामस्वरूप आपस में हुई राजनीतिक वर्चस्व की टकराहटके कारण कोई भी सरकार अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर सकी सवाल ये है कि वर्तमानपरिदृश्य में जिस तरह मोदी बनाम दूसरे सबका समीकरण उभर कर आ रहा है, उसमें किसीवैकल्पिक फ्रंट की कितनी गुंजाईश बैठ पाएगी?

Read more ...

हाल में बिहार के सारे अखबारों ने नौ सालों केकथित सुशासनी सरकार के रिपोर्ट-कार्डको जिस तरीके से परोसा और जिस तरह से वोनीतीश जी के चुनावीअभियान की मुहिम सम्पर्क-यात्राको परोस रही है वो अपने आप हीनीतीश जी की सरपरस्ती वाले सुशासन के मीडिया-मैनेजमेंट की सच्चाई को बयाँ करता हैपढ़ने के बाद यही लगता है कि मीडिया अपनी आलोचक और प्रहरी की भूमिका को पूर्ण रूप से भूलकर दरबारीकी भूमिका बखूबी निभा रहा है।

Read more ...

एक अजीबो-गरीब हताशा का माहौल कायम है बिहार के सत्ताधारी दल जनता दल (यूनाइटेड) में, विधान सभा चुनाव नजदीक हैं लेकिन संगठन से जुड़े समर्पित लोगों में कोई उत्साह नहीं दिखता। संगठन से जुड़े लोगों और जनता से जुड़े चंद नेताओं को नजरअंदाज कर जब से नीतीश जी नेअपनी ना समझ में आने वाली राजनीतिक रणनीति के साथ पार्टी को चलाने का फैसला किया हैतभी से एक निराशा का माहौल कायम है जनता दल (यूनाइटेड) में।

Read more ...

नौ सालों के बाद सुशासनी-सरकार को सूबे के सबसे बड़े हस्पतालपीएमसीएच की चिंता सताने लगी है, वो भी तब जब हालिया पटना हादसे के बाद इस हस्पतालकी बदहाली से खुद मुख्यमंत्री को रूबरू होना पड़ा.

Read more ...

हादसों के बादअधिकारियों के तबादले की परम्परा सरकारी अमले की खामियों पर पर्दा डालने की कवायदका काफी पुराना 'चोंचला' है. ऐसी कवायदों से प्रशासनिक तंत्र में कोई आमूल-चूलपरिवर्तन ना तो पहले कभी हुआ है और ना भविष्य में होने वाला है. ऐसे तबादलों कोअधिकारीगण 'रूटीन-अफेयर' मानते हैं. अगर सरकारें वास्तविकता में गंभीर होतींतो सिर्फ तबादलों का दिखावा नहीं होता अपितु दोषी व सीधे तौर पर ज़िम्मेवारअधिकारियों को कानून के तहत सजा सुनिश्चित करवाती.

Read more ...

पटना में रावण-दहन के उपरान्त मची भगदड़ के बाद जैसी कुव्यवस्था औरबदइंतजामी देखने को मिली वो सुशासनी सरकार के बहुप्रचारित आपदा प्रबंधन के मुँह पर 'तमाँचाही है. तीन साल पहले छठ पूजा के अवसर पर ऐसी ही परिस्थितियों में ऐसाही हादसा हुआ था और तब भी सरकार की व्यवस्था की पोल खुल गई थी लेकिन फिर भी सरकारचेती नहीं.

Read more ...

अपने ही 'पोस्टमें गोल मारने के बाद किसी खिलाड़ी की पीठथप-थपाई जाती है क्या कल मेडीसन-स्क्वायर के बाहर मशहूर पत्रकार राजदीप सरदेसाई के साथ अप्रवासी भारतीयों ने राजदीप के द्वारा देश के प्रधामन्त्री की छवि कोधूमिल करने के उद्देश्य से पूछे गए विद्वेषपूर्ण सवालों के उपरान्त जैसा सलूक किया उससे फिर से एक बार ये सवाल उठता है कि "मीडिया को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रताके नाम पर हस्तक्षेप की कितनी 'दूरीदी जानी चाहिए?"

Read more ...

१९९० के दशक में लालू राज के शुरुआती दिनों (जिसे कालान्तर में जंगल-राज के विशेषण से नवाजा गया) में बिहार में जब सत्ता की शह पर आपराधिक चरित्र के लोगों वबाहुबलियों के तांडव की शुरुआत हुई थी तो सर्वप्रथम जो चेहरा अपने कारनामों के कारण सबसे चर्चित हुआ था वो पप्पू यादव का ही था l

Read more ...

केंद्र – सरकार ने पूरे देश में १०० स्मार्ट-सिटी विकसितकिए जाने की घोषणा की है भारत सरकार के शहरी विकास मंत्रालय के सचिव का इसीसंदर्भ में बिहार का दौरा सोमवार (१५.०९.२०१४) को प्रस्तावित है सूत्रों की मानेंतो बिहार के तीन शहरों पटनागया और भागलपुर का चयन इस प्रयोजन हेतू सुनिश्चित हैलेकिन बिहार सरकार ११ शहरों के लिए अपनी दावेदारी रख रही है l

Read more ...

"Poverty is a curse, must be eradicated" says नीतीश जी....

ये तो हम सबजानते हैं कि गरीबी अभिशाप है ....बेहतर होता आप ये बताते कि आपकी सरपरस्ती के नौसालों के शासन में इसके उन्मूलन के लिए आपने और आपकी सुशासनी सरकार ने कौन-कौन सेसार्थक पहल किए और उनका प्रतिफल बिहार की गरीब जनता को क्या मिला?

Read more ...

भारत से प्रतिवर्ष औसतन सवा लाख लोग हज करनेके लिए मक्का मदीना जाते हैं। इस्लामी आदेशानुसार हज यात्रा पर उसी इस्लामी-धर्मावलम्बी को जाना चाहिएजो अपने जीवन के सभी पारिवारिक दायित्वों से मुक्त होचुका हो और जिसके पास अपनी गाढ़ी कमाई हो और हज के निमित्त वो उसी कमाई को खर्च करे l

Read more ...

PhotoGallery

photogallery module

Your Favorite Recipes on PD

Recipes

Latest Comments