देश तो आगे बढ़ कर जापान में जनता की भूख बेच रहा है

Typography

भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के प्रयासों को अमलीजामा पहनाने के लिए ये जरूरी है कि ऐसे प्रयासों को निष्पादित करने वाले अधिकारी, कर्मचारी भी भ्रष्ट नहीं हों. क्या हो रहा है नोटों के बदले जाने के सरकारी फैसले के मामले में? आम जनता घंटों लंबी कतारों में खड़ी हो कर खाली हाथ लौटने को मजबूर है. रोजमर्रा की जरूरतों का पूरा करना माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने से भी कठिन साबित हो रहा है. वहीं रसूखदारों, पहुँच वालों, सही मायनों में कालाधन रखने वालों को कोई परेशानी नहीं हो रही.

बैंकों में गोरखधंधा अपने परवान पर है. बैंक-कर्मी एक तय कमीशन पर फेक आईडी'ज पर नोट एक्सचेंज भी कर रहे हैं और जमा भी. देश में लाखों करोड़ों खाते फेक आईडी'ज पर खुले हैं और ऐसे ही आईडी'ज का इस्तेमाल कर कालाधन रखने वाले एक बार फिर इस नयी व्यवस्था को धत्ता दे रहे हैं. एटीएम-टू-एटीएम, बैंक-टू-बैंक ठोकर खा रही है आम जनता और कॉलर ऊपर कर खुद अपनी पीठ थप-थपा रही है पूंजीपतियों, काला-बाजारियों के हितों की पोषक मोदी सरकार.

जैसी अव्यवस्था और बदइंतजामी पूरे देश में देखने को मिल रही है उससे साफ़ तौर पर ये साबित होता है कि बिना किसी दुरुस्त तैयारी के सिर्फ और सिर्फ सुर्खियां बटोरने के लिए मोदी सरकार के द्वारा लिया गया है ये निर्णय.

पूरी अर्थव्यवस्था सस्पेंडेड मोड में है; आम जनता अपनी दैनिक व् आकस्मिक जरूरतों को पूरा करने की जद्दोजहद से जूझ रही है, बाजार में पैसे का सर्क्यूलेशन ठप्प है, यातायात व् माल ढुलाई ठहर से गयी है, व्यापार स्थिति सामान्य होने की बाट जोह रहा है, वेतन पर गुजर करने वाले अपने वेतन की आस में टिटिहरी की तरह ताक रहे हैं, रोज कुछ बेच कर अपना पेट भरने वाले मोदी जी के दिखाए गए सपनों के बिकने का इंतजार कर रहे हैं, दिहाड़ी मजदूर के पास काम तो है लेकिन भुगतान में मिलने वाली रेजगारी नदारथ है, खेतों में धान की फसल कटाई के इंतजार में खड़ी है किसान के पास कटाई-पिटाई की मजदूरी देने के पैसे नहीं हैं, ग्रामीण हाट-बाजार वीरान पड़े हैं, ग्रामीण बैंकों के शटर गिरे हैं, घर से बाहर रह कर पढ़ाई करने वाले छात्रों के पास खाने को पैसे नहीं हैं, निजी हस्पताल में इलाज करा रहे मरीजों के परिजनों के पास दवा खरीदने व भुगतान करने को पैसे नहीं हैं, पर्यटक एक ही जगह पर अटकने को मजबूर हैं.

कोई अफ़सोस नहीं, कोई चिंता नहीं, 'देश' तो आगे बढ़ कर जापान में जनता की भूख बेच रहा है.


Alok Kumar, Sr. Journalist, Patna

BLOG COMMENTS POWERED BY DISQUS

PhotoGallery

photogallery module

Your Favorite Recipes on PD

Recipes

Quick Poll

Should Nitish Kumar ditch RJD and Congress and come back to the NDA fold?

Latest Comments

Recent Articles in Readers Write, Lifestyle, Feature, and Blog Sections